भारत की प्रमुख तिलहन फसलें

जिन फसलों से तेल की प्राप्ति की जाती है, उन्हें तिलहन फसलों के अन्तर्गत रखा जाता है। जैसे सोयाबीन, तिलहन एवं दलहन दोनों के अंतर्गत आती है। भारत का तिलहन उत्पादन में विश्व में तीसरा स्थान है।

  • प्रमुख तिलहन फसलें अग्रलिखित हैं-
    • सोयाबीन
    • मूंगफली
    • सरसों
    • सूरजमुखी
    • नारियल
    • कुसुम
  • प्रमुख तिलहन फसलों का ऋतुवार विवरण निम्नलिखित है-
    • रबी- सरसो।
    • खरीफ- मूंगफली, सोयाबीन।
  • भारत में तिलहन में सर्वाधिक उत्पादन सोयाबीन का फिर मूंगफली का होता है।
  • तिलहन की फसलों के रासायनिक तथ्य-
  • सूरजमुखी- इसमें 64% लिनोलिक अम्ल पाया जाता है जोकि मानव शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में सहायक होता है।
  • सरसों- सरसों के तेल में तीखापन आइसोथियोसाइनेट के कारण होता है। सरसों की कुछ प्रजातियों में एरूसिक अम्ल पाया जाता है जोकि मानव शरीर के लिए हानिकारक होता है।
  • भारत में प्रमुखतः तिलहन फसलों का उत्पादन उन ही स्थानों पर किया जाता है जहां की भूमि कम उपजाऊ तथा वार्षिक वर्षा की मात्रा भी कम होती है। इसका प्रमुख कारण यह है कि तिलहन की फसलों को अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं होता तथा अधिक उपजाऊ क्षेत्र में खाद्यान फसलों को उगाया जाता है।
  • कुल बोये गए फसलों के क्षेत्रफल के अनुसार खाद्यान फसलों के बाद तिलहन फसलों का स्थान दूसरा है।
  • तिलहन उत्पादन में मध्य प्रदेश अग्रणी राज्य है।
  • भारत के तिलहन उत्पादन में अग्रणी राज्य निम्नलिखित है-
    • सोयाबीन- मध्य प्रदेश
    • मूंगफली- गुजरात
    • सरसों- राजस्थान
    • सूरजमुखी- कर्नाटक
    • नारियल- तमिलनाडु
    • कुसुम- महाराष्ट्र

Your Comment


Write First Comment Here